रविवार, 28 मार्च 2010

गजल


गजल
जादा भी नी गलानियाँ गलां ।
मुक्दियाँ तां मुकानियाँ गलां।।

कोड़ियां जे गलानियाँ गलां।
अप्पू जो ही खानियाँ गल्लां ।।

लारे देई भट्कानियाँ गल्लां।
नी दिले ने लानियाँ गल्लां ।।

कित्नियाँ की ठगानियाँ गलां ।
भुल्दियाँ नी पुरनियाँ गलां ।।

कल तक थियां नियानियाँ गलां।
लगदियां अज सयानियाँ गलां।।

जे छालियाँ सुचेयाँ पानियां गलां ।
बनिया तां गुरुवानियाँ गलां।।





















1 टिप्पणी :

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं