बुधवार, 20 अप्रैल 2016

नां बेशक अज्जें चमकें धर्मशाला दा, खास केंह सिद्धबाड़ी, कुस्जो क्या दसणा?


दिलां रा रोग रंगाड़ी कुस्जो क्या दसणा?
अपणा टिढ कुहाड़ी कुस्जो क्या दसणा?
अप्पु नें ग्लांदे न, सीसे गल्लां लांदे न,
लेया क्या नुआड़ी, कुस्जो क्या दसणा?
नां बेशक अज्जें चमकें धर्मशाला दा,
खास केंह सिद्धबाड़ी, कुस्जो क्या दसणा?
भला क्यो कोई प्यारु जोतां लंघदा है?
क्या राखा, छतराड़ी,कुस्जो क्या दसणा?
खपरा टिटकदा रेहंदा इक्की घुटे जो,
छोरु बड़े गराड़ी, कुस्जो क्या दसणा?
हुण नुस्खे नां दे रेह, बेतेयां वैधां दे,
दिखें कुण जे नाड़ी, कुस्जो क्या दसणा?
फिरदे केई स्कन्दर दुनिया जितणे जो,
वक्त दें परछाड़ी, कुस्जो क्या दसणा?
है टोहर तिन्ह दी, वाह ठुक तिन्हा दी
मुंडू असां पहाड़ी, कुस्जो क्या दसणा ।।

3 टिप्‍पणियां :