गुरुवार, 22 अप्रैल 2010



छाखेयां जो चखाणा खाणा।
फिरी पेंठी बरताणा खाणा।।

अन्न देवता भरें श्राफां।
नी जादा तरसाना खाना।।

कदी नी जीणा खाणे तांई।
जीणे तांई खाणा खाणा।।

दाणे- दाणे नां लखोया।
कुसने कुनी बंडाणा खाणा।।

1 टिप्पणी :

  1. sir bhut kubh. छाखेयां जो चखाणा खाणा।
    फिरी पेंठी बरताणा खाणा।। achi lagi.
    MUNISH DIXIT

    उत्तर देंहटाएं